अखंड भारत दिवस 2019

”सुदर्शनं प्रवक्ष्यामि द्वीपं तु कुरुनन्दन। परिमण्डलो महाराज द्वीपोऽसौ चक्रसंस्थितः॥

                                                                                                (वेदव्यास, भीष्म पर्व, महाभारत)

सरस्वती शिशु मंदिर गौशाला अशोकनगर में अखंड भारत दिवस बड़े धूमधाम से मनाया गया!

        प्राचार्य श्री रघुवीर श्रीवास जी ने  कहा कि अखण्ड भारत भारत के प्राचीन समय के अविभाजित स्वरूप को कहा जाता है। प्राचीन काल में भारत बहुत विस्तृत था जिसमें अफगानिस्तानपाकिस्तानबांग्लादेशश्रीलंकाबर्माथाइलैंड शामिल थे। कुछ देश जहाँ बहुत पहले के समय में अलग हो चुके थे वहीं पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि अंग्रेजों से स्वतन्त्रता के काल में अलग हुये। केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 व 35 ए समाप्त कर जम्मू एवं कश्मीर को देश के बाकी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों की श्रेणी में लाकर आजादी के बाद ऐतिहासिक निर्णय लिया गया है, जिससे देश की एकता व अखंडता और सुदृढ़ होगी।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *